-->
--

अकेलापन इस संसार में सबसे बड़ी सज़ा है और एकांत इस

हिन्दी सुविचार

हिन्दी सुविचार
हिन्दी सुविचार


अकेलापन इस संसार में सबसे बड़ी सज़ा है और एकांत इस  संसार में सबसे बड़ा वरदान ।  

ये दो समानार्थी दिखने वाले शब्दों के अर्थ में आकाश पाताल  का अंतर है ।  

अकेलेपन में छटपटाहट है तो एकांत में आराम  है । 

अकेलेपन में घबराहट है तो एकांत में शांति । 
जब तक हमारी नज़र बाहर की ओर है तब तक हम  अकेलापन महसूस करते हैं और जैसे ही नज़र भीतर की ओर  मुड़ी तो एकांत अनुभव होने लगता है.!!


akelaapan is sansaar mein sabase badee saza hai aur ekaant is  sansaar mein sabase bada varadaan .  

ye do samaanaarthee dikhane vaale shabdon ke arth mein aakaash paataal  ka antar hai .  

akelepan mein chhatapataahat hai to ekaant mein aaraam  hai . 

akelepan mein ghabaraahat hai to ekaant mein shaanti . 

jab tak hamaaree nazar baahar kee or hai tab tak ham  akelaapan mahasoos karate hain aur jaise hee nazar bheetar kee or  mudee to ekaant anubhav hone lagata hai.!!

Advertisement
Post Comments ()