कहाँ मालूम था कि ...सुख और उम्र की आपस में बनती नहीं...