-->
--

ये दुनिया भी ना बहुत कितनी निराली है



Hindi Suvichar

Hindi Suvichar
Hindi Suvichar



ये दुनिया भी ना बहुत कितनी निराली है!

जिसकी आँखों में नींद है …. उसके पास अच्छा बिस्तर नहीं है…
और जिसके पास अच्छा बिस्तर है …उसकी आँखों में नींद नहीं है …

जिन्हें कद्र है रिश्तों की … उन से कोई रिश्ता रखना नही चाहता....
जिनसे रिश्ता रखना चाहते हैं ….उन्हें  रिश्तों की कद्र तक नहीं है..

जिसके मन में दया है ….उसके पास किसी को देने के लिए धन नहीं है…. 
और जिसके पास धन है उसके मन में दया नहीं है …

जिसको भूख है उसके पास खाने के लिए भोजन नहीं….
और जिसके पास खाने के लिए भोजन है... उसको भूख ही नहीं…

कोई अपनों के लिए…. रोटी छोड़ देता है…
तो कोई रोटी के लिए….. अपनों को छोड़ देता है….



ye duniya bhee kitanee niraalee hai!


jisakee aankhon mein neend hai …. usake paas achchha bistar nahin …

jisake paas achchha bistar hai …usakee aankhon mein neend nahin …


jisake man mein daya hai ….usake paas kisee ko dene ke lie dhan nahin …. 

aur jisake paas dhan hai usake man mein daya nahin …


jinhen kadr hai rishton kee … un se koee rishta rakhana nahee chaahata....

jinase rishta rakhana chaahate hain ….unhen  rishton kee kadr nahin 


jisako bhookh hai usake paas khaane ke lie bhojan nahin….

aur jisake paas khaane ke lie bhojan hai... usako bhookh nahin…


koee apanon ke lie…. rotee chhod deta hai…
to koee rotee ke lie….. apanon ko….

Download
Advertisement
Post Comments ()