-->
--

वो मुझे लाज़वाब कहती है, ज़िन्दगी का हिसाब

Hindi Shayari

Hindi Shayari
Hindi Shayari



वो मुझे लाज़वाब कहती है,
ज़िन्दगी का हिसाब कहती है..! 

रंग-ख़ुशबू को छेड़ने के लिए,
मुझको सुफेद गुलाब कहती है..!  

जब भी पढती है मुझको फुर्सत में,
ख़ूबसूरत क़िताब कहती है..!

मुझको ताज़ा नशा बता कर वो,
एक पुरानी शराब कहती  है...!

बंद करती  है अपनी पलकों को,
और फिर मुझको ख्व़ाब कहती है..! 

अपना चेहरा छिपा के वो मुझमें ,
मुझको अपना नक़ाब कहती है...!

पूछती  है सवाल ख़ुद से ही,
और मुझको जवाब कहती है...!!


vo mujhe laazavaab kahatee hai,
zindagee ka hisaab kahatee hai..! 

rang-khushaboo ko chhedane ke lie,
mujhako suphed gulaab kahatee hai..!  

jab bhee padhatee hai mujhako phursat mein,
khoobasoorat qitaab kahatee hai..!

mujhako taaza nasha bata kar vo,
ek puraanee sharaab kahatee  hai...!

band karatee  hai apanee palakon ko,
aur phir mujhako khvaab kahatee hai..! 

apana chehara chhipa ke vo mujhamen ,
mujhako apana naqaab kahatee hai...!

poochhatee  hai savaal khud se hee,
aur mujhako javaab kahatee hai...!!

Download
Advertisement
Post Comments ()