खुश रहने के मूलमंत्र मन मिले जिससे रिश्ता रखो..



खुश रहने के मूलमंत्र 

मन मिले जिससे . . . रिश्ता रखो उसी से 
जहाँ क़दर नहीं . . . . वहाँ जाना ही नहीं , 
जो सुनता नही. . . . उसे समझाना ही नहीं , 
जो पचता  नहीं . . . . खाना ही नहीं , 
जो सत्य पर भी रूठे . . मनाना ही नहीं , 
जो नज़रों से गिर जाए . . . उसे उठाना ही नहीं , 
जीवन में तकलीफें आएं . . . घबराना ही नहीं , 
मौसम की तरह जो दोस्त बदले . . बनाना ही नहीं


khush rahane ke moolamantr 

man mile jisase . . . rishta rakho usee se 

jahaan qadar nahin . . . . vahaan jaana hee nahin , 

jo sunata nahee. . . . use samajhaana hee nahin , 

jo pachata  nahin . . . . khaana hee nahin , 

jo saty par bhee roothe . . manaana hee nahin , 

jo nazaron se gir jae . . . use uthaana hee nahin , 

jeevan mein takaleephen aaen . . . ghabaraana hee nahin , 

mausam kee tarah jo dost badale . . banaana hee nahin

Post a Comment

0 Comments