-->
--

अब कौन रोज़- रोज़ ख़ुदा ढूंढे, जिसको ना मिले वही ढूंढे..।

हिंदी शायरी

हिंदी शायरी
हिंदी शायरी
अब कौन रोज़-रोज़ ख़ुदा ढूंढे,
जिसको ना मिले वही ढूंढे..।

रात आयी है, सुबह भी होगी,
आधी रात में कौन सुबह ढूंढे..।

चलते फिरते पत्थरों के शहर में,
पत्थर खुद पत्थरों में भगवान ढूंढ़े..।

ज़िंदगी है जी खोल कर जियो,
रोज़ रोज़ क्यों जीने की वजह ढूंढ़े..।

धरती को जन्नत बनाना है अगर,
हर शख्स खुद में पहले इंसान ढूंढे..!
_______________________________

Hindi Shayari
ab kaun roz roz khuda dhoondhe,
jisako na mile vahee dhoondhe.

raat aayee hai, subah bhee hogee,
aadhee raat mein kaun subah dhoondhe.

zindagee hai jee khol kar jiyo,
roz roz kyon jeene kee vajah dhoondhe.

chalate phirate pattharon ke shahar mein,
patthar khud pattharon mein bhagavaan dhoondhe.

dharti ko jannat banaana hai agar,
har shakhs khud mein pahle insaan dhoondhe.!
Post Comments ()