-->
--

बोलने का हक छीना जा सकता है, मगर

हिन्दी सुविचार

हिन्दी सुविचार
हिन्दी सुविचार



बोलने का हक छीना जा सकता है,
मगर खामोशी का हक कभी नहीं छीना जा सकता..!

खामोशी समझदारी भी है, और मजबूरी भी है..
कहीं नज़दीकियां बढ़ाती है और कहीं दूरियां भी..!!
🙏🙏🙏🙏


bolane ka hak chheena ja sakata hai,
magar khaamoshee ka hak kabhee nahin chheena ja sakata..!

khaamoshee samajhadaaree bhee hai, aur majabooree bhee hai..

kaheen nazadeekiyaan badhaatee hai aur kaheen dooriyaan bhee..!!
🙏🙏🙏🙏

Download
Advertisement
Post Comments ()