अहंकार कभी ना करेंएक छोटा सा कंकर भी मुँह में गया हुआ


अहंकार कभी ना करें
एक छोटा सा कंकर भी मुँह में गया हुआ निवाला बाहर निकाल सकता है l

कर्म के पास न कागज़ है, न किताब है
लेकिन फिर भी,
सारे जगत का हिसाब है:

दुनिया के चार स्थान कभी नहीं भरते
 समुद्र
 शमशान
तृष्णा का गड्ढा
और मनुष्य का मन...!

🙏🌹सुप्रभात 🌹🙏


ahankaar kabhee na karen
ek chhota sa kankar bhee munh mein gaya hua nivaala baahar nikaal sakata hai l

karm ke paas na kaagaz hai, na kitaab hai
lekin phir bhee,
saare jagat ka hisaab hai:

duniya ke chaar sthaan kabhee nahin bharate
 samudr
 shamashaan
trshna ka gaddha
aur manushy ka man...!

🙏🌹suprabhaat 🌹🙏

Post a Comment

0 Comments