*चलो कुछ पुराने दोस्तों के ,* *दरवाजे खटखटाते है !**देखतें हैं उनके पंख थक चुके*...

Hindi shayari

Hindi shayari
Hindi shayari

*चलो कुछ पुराने दोस्तों के ,*
               *दरवाजे खटखटाते है !*
*देखतें हैं उनके पंख थक चुके*
         *या अभी भी फड़फड़ाते है !*

*हँसते हैं खिलखिलाकर, या*
         *होंठ बंद कर मुस्कुराते हैं !*
*बताते है सारी आपबीती, या*
         *सिर्फ सफलताएं सुनाते हैं !*

*हमारा चेहरा देख वो ,*
     *अपनेपन से मुस्कराते है !* 
*या घडी की और देखकर ,*
    *हमें जाने का वक्त बताते हैं !*

*चलो कुछ दोस्तों के ,* 
            *दरवाजे खटखटाते है !*
👍🏻👍🏻👍🏻

Post a Comment

0 Comments