दूसरों की ख़ुशी में " अपनी ख़ुशी " देखना एक बहुत बड़ा हुनर है ।...


दूसरों की ख़ुशी में " अपनी ख़ुशी " देखना एक बहुत बड़ा हुनर है ।
और
जो इंसान ये हुनर सीख जाता है
वो कभी भी " दुखी "नही होता ।

Post a Comment

0 Comments