-->
--

इंसानियत तो एक है मजहब अनेक हैये ज़िन्दगी इसको जीने के मक़सद अनेक है...

Hindi shayari

Hindi shayari
Hindi shayari


इंसानियत तो एक है मजहब अनेक है

ये ज़िन्दगी इसको जीने के मक़सद अनेक है



ना खाई ठोकरे वो रह गया नाकाम

ठोकरे खाकर सँभलने वाले अनेक हैं



ना महलों में ख़ामोशी ना फूटपाथ पर

क़ब्रिस्तान में ख़ामोशी से लेटे अनेक है



बहुत चीख़ती है मेरे दिल की ख़ामोशी तन्हाई में

ख़ामोशी अच्छी है कहते अनेक है



रोये थे कभी उसकी याद में अकेले बैठकर

आँखे मेरी लाल है कहते अनेक है

👍👍👍👍
Advertisement
Post Comments ()