-->
--

प्रेमिका की शादी कहीं और हो जाती हैतब प्रेमी कहता है...

Hindi shayari

Hindi shayari
Hindi shayari

प्रेमिका की शादी कहीं और हो जाती है
तब प्रेमी कहता है...
.
आज दुल्हन के लाल जोङे में
उसकी सहेलियों ने सजाया होगा
.
मेरी जान के गोरे हाथों पर
सखियों ने मेहंदी को लगाया होगा
.
बहुत गहरा चढेगा मेहंदी का रंगा
उस मेहंदी में उसने मेरा नाम छुपाया होगा
.
रह रहकर रो पङेगी
जब भी उसे मेरा ख्याल आया होगा
.
खुद को देखेगी जब आइने में
तो अक्श उसको मेरा भी नजर आया होगा
.
लग रही होगी एक सुंदर सी बाला
चांद भी उसे देखकर शर्माया होगा
.
आज मेरी जान ने अपने मां बाप की
इज्जत को
बचाया होगा
उसने बेटी होने का फर्ज निभाया होगा
.
मजबूर होगी वो बहुत ज्यादा
सोचता हुं कैसै खुद को समझाया होगा
.
अपने हाथों से उसने
हमारे प्रेम खतों को जलाया होगा
.
खुद को मजबूर बनाकर उसने
दिल से मेरी यादों को मिटाया होगा
.
भूखी होगी वो मैं जानता हुं
पगली ने कुछ ना मेरे बगैर खाया होगा
.
कैसे संभाला होगा खुद को
जब फैरों के लिए उसे बुलाया होगा
.
कांपता होगा जिस्म उसका
जब पंडित ने हाथ उसका किसी और के हाथ में
पकङाया होगा
.
रो रोकर बुरा हाल हो जाएगा उसका
जब वक्त विदाई का आया होगा
.
रो पङेगी आत्मा भी
दिल भी चीखा चिल्लाया होगा
.
आज उसने अपने मां बाप की इज्जत के लिए
उसने अपनी खुशियों का गला दबाया होगा..
.....
♥♥♥♥♥♥

Advertisement
Post Comments ()